चुड़ैल की horror story in hindi

Horror story in hindi

हेलो दोस्तों मेरा नाम रमेश है और मैं राजस्थान के छोटे से गांव में रहता हूं। हमारे गांव में हर साल अमावस की रात को कुछ ना कुछ बुरा हुआ करता था। मैं जब छोटा था वह दिन मुझे अच्छे से याद है क्योंकि उस दिन अमावस की रात को मैंने कुछ ऐसा देखा जिसको याद करके मेरे आज भी रोनटे खड़े हो जाते हैं। आप भी वो सुनकर डर जाओगे। अमावस की रात थी। रात का समय था। उस दिन रात को किसी की आवाज निकालने की आवाज सुनाई देने लगी ऐसा लग रहा था कोई रो रहा है तब मै उठकर खिड़की की तरफ क्या तो मैंने देखा एक औरत एक पेड़ के नीचे बैठकर रो रही थी। मैं थोड़ा सा डर गया था फिर उसने एकदम मेरी तरफ देखा उसकी आंखों से खून आया था मैं डर के मारे कमरे में जाकर मैं पापा साथ हो गया। जब सुबह हुई पापा से पूछा पापा रात को मुझे एक औरत उस पेड़ के नीचे रोते हुए दिखाई दी।
पापा ने मुझे डांट कर कहा आज के बाद तुम्हें रात को कहीं भी जाना हो पहले मुझे बताना। ऐसे बिना पूछे रात को कहीं मत जाया करो।
तो मैंने सुबह किसी को कहते हुए सुना उस चुड़ैल ने फिर एक और मासूम को मार दिया।
धीरे-धीरे समय बीतने लगा जैसे-जैसे में बड़ा होता क्या तो मुझे पता लगा कि हमारे गांव पर एक चुड़ैल का साया है जो हर अमावस्या की रात आती है। और किसी ना किसी मासूम को मार देती है।
चुड़ैल horror story
चुड़ैल horror story

मैं तो फिर उसी चुड़ैल का पता लगाने लग गया क्यो वो यहां पर आती है। पता लगाते लगाते मुझे एक बाबा मिल गए। तो मैं उस बाबा के पास गया और उनसे कहा बाबा क्या आपको अमावस्या और चुड़ैल के बारे में कुछ पता है। बाबा ने कहा तुम चले जाओ यहां से वह चुड़ैल तुम्हें मार देगी। तुम्हारा सब कुछ छीन लगी। तुम चले जाओ तो मैंने बाबा से कहा please मुझे उस चुड़ैल का रहस्य पता दीजिए। वह हर साल हमारे गांव में आती है और किसी ना किसी को मार देती है। अगर यह सब बंद नहीं हुआ। तो गांव में हर साल किसी मासूम की जान चली जाएगी।
चुड़ैल horror story
चुड़ैल horror story

बाबा ने थोड़ा सोचा और कहां तुम बैठ मेरे पास मैं तुम्हें उस चुड़ैल के बारे में सब कुछ बताता हूं। मैं बाबा साथ बैठा बाबा ने मुझे कहानी बताना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा बहुत साल पहले हमारे गांव में एक औरत रहती थी। जो छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करती रहती है। गांव के लोग उसे पसंद नहीं करते थे। एक दिन उसने गांव की एक बच्ची को मारा उसे इतनी बुरी तरह मारा उसके सर से खून आने लग गया। तो गांव वाले ने उसे सबक चीखने के लिए उसे 1 झोपड़ी में बंद करा और झोपड़ी में आग लगा दी। वो औरत चिल्लाती रही लेकिन किसी ने उसकी मदत नहीं करी। तब जाते-जाते उसने कहा मैं तुम सबको मार दूंगी। मैं हर अमावस्या को आऊँगी। एक-एक करके सब को मार दूँगी। तो वो हर अमावस्या आती है और गांव में किसी न किसी को मार देती है। तो मैंने बाबा से पूछना था। इसका कोई इलाज नहीं है कि हम हमेशा के लिए औरत को कैसे भगाएं। तो बाबा ने कहा सिर्फ एक ही इलाज है और वह बहुत मुश्किल है इसमें तुम्हारी जान भी जा सकती है। तो मैंने कहा बाबा जी आप बताइए मैं उसको भगाने के लिए सब कुछ करूंगा। तो बाबा ने कहा तुम्हें उस औरत के पीछे कमर पर वार करना होगा। जैसे तुम कमर पर वार करोगे वह मर जाएगी और हमेशा तुम्हारे गांव को छोड़ देगी। तो अमावस्या की रात आने वाली थी। मैं भी पूरी तैयारी में था।
अमावस्या की रात वाले दिन रात को 12:00 बजे मैंने देखा चुड़ैल उसी पेड़ के नीचे बैठी है। तो मैं उसके पास किया उसने मेरी तरफ देखा। मैं डर गया पर मुझे बाबा की बहुत याद थी। मैंने जाते ही उसे खंजर मारने की कोशिश की। तो उसने अपने एक हाथ से मुझे गिरा दिया। फिर वह औरत मेरे पास आई तो मैंने उसको गले लगा लिया और खंजर निकाल के उसके कमर में दे दिया। वह जोर से चिलाने लगी और एकदम गायब हो गई। मैंने गांव वालों को बचा लिया। अब हमारे गांव पर किसी का साया नही है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां